Subscribe for Newsletter

Parshuram Jayanti 2019 Date~परशुराम जयंती

Parshuram Jayanti 2019 Date~परशुराम जयंती
This year's Parshuram Jayanti 2019 Date~परशुराम जयंती

Tuesday, 07 May - 2019

Parshuram Jayanti ~परशुराम जयंती in 2019 will be observed on 7th May, 2019. 

भगवान् विष्णु के छठे अवतार, परशुराम जी वीरता और माता-पिता के प्रति भक्ति का प्रतीक है। एक बार इनके पिता जमदग्नी ने अपनी पत्नी रेणुका से क्रोधित होकर परशुराम को उनकी हत्या करने का आदेश दिया। परशुराम ने उसका पालन किया और अपनी मां को मार दिया। परशुराम के कार्य से संतुष्ट जमदग्नी ने अपने बेटे से पूछा कि तुम क्या चाहते हो। परशुराम ने अपनी मां को वापस जीवन में लाने के लिए कहा। यह परशुराम चतुराई थी जो उसकी मां को फिर से जीवन मिला। इस प्रकार परशुराम ने अपने पिता और मां के प्रति अपनी भक्ति सिद्ध कर दी। जमदग्नी और उनकी कामधेनु गाय की क्षत्रिय राजा, कार्तवीर सहश्रार्जुन ने हत्या कर दी। तब परशुराम ने इस धरती पर सभी क्षत्रियों को मारने की कसम खाई और क्षत्रियों के स्वायत्तता से धरती को मुक्त कर दिया। सभी क्षत्रिय़ उनके क्रोध की वजह से भाग गए और कोई भी इस धरती की रक्षा नहीं कर पाया। इसलिए कश्यप मुनी ने परशुराम को इस दुनिया को छोड़ने का आदेश दिया। परशुराम जी महेंद्र पर्वत में गये और वहां रहने लगे। परशुराम जी का जन्मदिवस् वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाता है। इस दिन पुत्र प्राप्ति के लिए उपवास रखा जाता है और परशुराम द्वादशी भी कहा जाता है। वारा पुराण के अनुसार इस दिन उपवास रखकर भक्त को ब्रह्मलोक  में अपने प्रवास के आनंद का आशीर्वाद प्राप्त करता है और एक महान राजा के रूप में पुनर्जन्म लेता है। भगवान परशुराम का जन्मदिवस को अक्षय तृतीया के नाम से भी जाना जाता है। ऐसा दृढ विश्वास है कि इस दिन किये गए अच्छे कार्यों से प्राप्त गुणों स्थायी होते है। ऐसा माना जाता है कि अक्षय तृतीया त्रेता युग का प्रारम्भ है। भारत में आबादी का प्रमुख भाग हिन्दू हैं। मध्ययुगीन काल के पश्च्यात हिंदू धर्म के पुनरोद्धार के साथ, परशुराम के जन्मदिवस ने इसके महत्व को पुनः प्राप्त कर लिया। उत्तरी भारत के अधिकांश शहरों में व्रत उपवास, जुलूस और सत्संग का भी आयोजन किया जाता है।


 एक पौराणिक कथा के अनुसार परशुराम जी शिव का दर्शन करने के लिए गए थे, लेकिन गणेश जी ने मार्ग अवरुद्ध किया। तो परशुराम जी ने  कुल्हाड़ी से गणेश जी पर प्रहार किया।था, गणेश जी यह जानते थे कि शिव ने इसे दिया है, और उन्होंने अपने एक दांत को काटने की अनुमति दी। माता पार्वती को जब पता चला कि उसके बेटे के दांत क्रोध से भरा हुआ है तो उन्होंने घोषणा की, कि यदि परशुरामों को क्षत्रिय के रक्त की प्यास अभी समाप्त नहीं हुई तो वह उसे रोक देगी और उसे अंतिम सबक सिखाएंगी; वह अपनी दोनों भुजाओ को पुष्ट करेगी और उसे मार देगी। देवी पार्वती तब शक्ति (देवी दुर्गा) का रूप लेती है और शक्ति का परम स्रोत बन जाती है तथा कोई भी अन्य दिव्य शक्ति उससे तुलना या मेल नहीं करती। सौभाग्य से, शिव उस समय पर पहुंचे और परशुराम को नुकसान न पहुंचाने के लिए पार्वती को समझाकर शांत किया कि परशुराम भी एक तरह से उनके पुत्र के सामान है और उन्हें परशुराम को माँ द्वारा बच्चो के कि गलती की तरह माफ कर देना चाहिए। परशुराम भी माफी मांगते हैं। पार्वती माँ गणेश जी के अनुरोध पर परशुराम को माफ कर देती है। परशुराम तब गणेश जी को अपने दिव्य शस्त्र कुल्हाड़ी का उपहार और आशीर्वाद देते है। परशुरामों की समुद्र भेदन के संबंध में एक और कथा है ऐसा कहा जाता है कि परशुराम जी ने अपने पौराणिक धनुष से एक तीर छोड़ा, जो गोवा में बेनॉलीम (कोंकणी: बनवली या बाणावल्ली) नामक एक स्थान पर पंहुचा जिसे स्थानीय रूप से साल्केचे थललेम के रूप में जाना जाता है, जिसका शाब्दिक अर्थ कमल झील है। 


Parshuram the sixth incarnation of Vishnu is the epitome of valour and devotion towards parents. Once his father, Jamadagni got angry with his wife Renuka and ordered Parshuram to murder her. Parshuram obeyed him and killed his mother. Contented with his act Jamadagni asked his son to ask for anything whatever he wanted. Parshuram asked to bring back his mother to life. It was Parshurams cleverness that brought back his mother to life again. In this way Parshuram proved his devotion to his father and mother. Jamadagni and their Kama Dhenu cow were killed by a kshatriya king, Kartavirya Sahashrarjun. Thus Parshuram vowed to kill all the kshatriyas on this earth and made it free from the autocracy of the kshatriyas. All the kshatriyas fled away due to the terror of him and no one remained to protect this earth. So Kashyap muni ordered Parshuram to leave this world. Parshuram went to mountain Mahendra and began living there. The birthday of Parshuram is celebrated on the 3rd day of Shukla Paksh of Vaishakh month. Fast is kept on this day to be blessed with son and is also called Parshu Rama Dwadashi. According to Varah Puran by keeping a fast on this day the devotee enjoys his stay in Brahmiok and will be reborn to become a great king. Akshaya Tritiya is another name for the birthday of Lord Parasuram. There is a strong belief the merits gained by good acts on this day is permanent. It is believed that Akshaya Tritiya marks the beginning of the Treta Yug. Hindus holds major part of population in India. With the revitalization of Hinduism after the medieval period, the birth day of Parshuram regained its importance. Except fasting, procession and satsang is also arranged in most of the towns of Northern India.

According to one legend Parashurama also went to visit Shiva but the way was blocked by Ganesha. Parashurama threw the axe at him and Ganesha, knowing it had been given by Shiva, allowed to cut off one of his [[tusk]s. The goddess Parvati (wife of Shiva) on finding her sons tusk being cut filled with rage and declared that if Parashuramas thirst for Kshatriyas blood was still not over she would put a stop to it and teach him a final lesson; she will severe both of his arms and kill him. The Goddess Parvati then takes a form of Shakti (Goddess Durga) and becomes the ultimate source of Power and no other divine power can resist or match to her Supreme power. Luckily, Shiva arrived at the scene and pacified Parvati after convincing not to harm Parashurama as he is also like her son in a way and she should forgive him as a Mother on her childs mistake. Parashurama also asks for her forgiveness. Parvati finally forgives Parashurama at the request of Ganesha. Parashurama then gifts his divine axe weapon to Ganesha and blesses him. There is another interesting legend with regards to Parashuramas beating back the seas. It is said that he fired an arrow from his mythical bow that landed in Goa, at a place called Benaulim(Konkani:Banavali or बाणावाली) creating what is known locally as Salkache Tollem, literally meaning lotus Lake.

 
 
 
 
 
UPCOMING EVENTS
  Papankusha Ekadashi 2018 Date, 20 October 2018, Saturday
  Sharad Purnima 2018 Date, 24 October 2018, Wednesday
  When is Karwa Chauth in 2018, 28 October 2018, Sunday
  When is Ahoi Ashtami 2018, 31 October 2018, Wednesday
  Rama Ekadashi 2018 Date, 3 November 2018, Saturday
  Dhanteras 2018 Date, 5 November 2018, Monday
 
Comments:
 
 
 
Festival SMS

Memories of moments celebrated together
Moments that have been attached in my heart forever
Make me Miss You even more this Navratri.
Hope this Navratri brings in Good Fortune

 
 
 
Ringtones
 
Find More
Copyright © MyGuru.in. All Rights Reserved.
Site By rpgwebsolutions.com