Subscribe for Newsletter
Naag Panchami~नाग पंचमी - Worshiping Nag at the Main Entrance

नाग पंचमी के दिन उपवासक अपने घर की दहलीज के दोनों और गोबर से पांच सिर वाले नाग की आकृति बनाते है. गोबर मिलने पर गेरु का प्रयोग भी किया जा सकता है. इसके बाद दुध, दुर्वा, कुशा, गंध, फूल, अक्षत, लड्डूओं से नाग देवता की पूजा कि जाती है. तथा नाग स्त्रोत या निम्न मंत्र का जाप किया जाता है.

 

" ऊँ कुरुकुल्ये हुँ फट स्वाहा"

 

इस मंत्र की तीन माला जप करने से नाग देवता प्रसन्न होते हैं. नाग देवता को चंदन की सुगंध विशेष प्रिय होती है. इसलिये पूजा में चंदन का प्रयोग करना चाहिए. इस दिन की पूजा में सफेद कमल का प्रयोग किया जाता है. उपरोक्त मंत्र का जाप करने से "कालसर्प योग\' के अशुभ प्रभाव में कमी आती है यानी कालसर्प योग की शान्ति होती है.

 
Copyright © MyGuru.in. All Rights Reserved.
Site By rpgwebsolutions.com