धार्मिक स्थल
Subscribe for Newsletter
» जहां बरसते हैं कोड़े 

जहां बरसते हैं कोड़े

 
जहां बरसते हैं कोड़ेInformation related to जहां बरसते हैं कोड़े.

रायसेन मुख्यालय के समीपस्थ ग्राम बनगंवा में कई पीढ़ियों से एक अनू ी परंपरा चली आ रही है। जिसमें 25 फीट ऊपर खंबे पर बकरे को बांधकर 144 बार गोल घुमाया जाता है। इसके बाद ग्रामीण ही दोनों ओर निकली रस्सी पर दाएं-बाएं झूला झूलते हैं। फिर इन व्यक्तियों पर कोड़ा बरसाया जाता है। यह अनू ी परंपरा वर्षों से चली आ रही है। 
 
धुलेंड़ी (होली) की शाम पांच बजे से बाबा वीर बम्मोल की विशेष पूजा-अर्चना प्रत्येक वर्ष धुलेंड़ी के दिन ही की जाती है। इस पूजा-अर्चना में सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण तो पहुंचते ही है और साथ-साथ अन्य जगहों से भी सैकड़ों लोग इस अनू ी परंपरा को देखने के लिए आते है। इसी दिन बच्चों का मुंड़न भी किया जाता है। 

इस विशेष पूजा में महिलाएं भी सैकड़ों की संख्या में उपस्थित होती है। गांव के सरपंच मुन्नुलाल गौर ने बताया कि गांव में यह परंपरा हमारे पूर्वजों से चली आ रही है। 

इसी परंपरा के अनुसार प्रति वर्ष पड़वा पर ही यहां पर मेला भरता है और बाबा वीर बम्मोल की पूजा अर्चना की जाती है। वहीं गांव के निवासी शंकर ने बताया कि यह परंपरा हजारों साल से चल रही है। यह देवता है जिनकी हम पूजा-अर्चना करते हैं।

Comment
 
Name:
Email:
Comment:
Feng Shui Tips
Feng Shui Dragon
Facing and Sitting directions
Feng Shui Bamboo Plant
View all
Lal Kitab Remedies
नौ ग्रहों के दोष दूर करने के लिए मोर पंख के उपाय
Things not to do According to Lalkitab
विवाह के लिए ज्योतिष उपाय
निवारण के प्रमुख स्थल
गर्मी के दिनों में क्या खाएं क्या न खाएं
View all Remedies...
Prashnawali

Ganesha Prashnawali

Ma Durga Prashnawali

Ram Prashnawali

Bhairav Prashnawali

Hanuman Prashnawali

SaiBaba Prashnawali
 
 
Free Numerology
Enter Your Name :
Enter Your Date of Birth :
 
Dream Analysis
Dream
  like Wife, Mother, Water, Snake, Fight etc.
 
Find More
Copyright © MyGuru.in. All Rights Reserved.
Site By rpgwebsolutions.com