धार्मिक स्थल
Subscribe for Newsletter
» पितरों की विदाई 

पितरों की विदाई

 
पितरों की विदाईInformation related to पितरों की विदाई.

पितरोंकी विदाई गंगा में दीप दान कर की जाती है। पितर देव शत-शत आशीष देते हैं और घर-परिवार में सुख-समृद्धि का वास होता है।

पितरोंको देवताओं से भी श्रेष् स्थान दिया गया है। हर साल के अश्विन मास के कृष्णपक्ष में पितर धरती पर विराजते हैं। इस समयावधि को ही पितृपक्ष कहा जाता है। पितृपक्ष यानी कि पितरोंका पखवाडा। पितरोंके निमिततर्पण और पिंडदान करने की सनातनी परंपरा आदि काल से चली आ रही है। 

 

अश्विन मास की कृष्ण पक्ष की अमावस्या के दिन उन पितरोंके निमिततो श्राद्ध होगा ही, जिनकी मृत्यु अमावस्या तिथि को हुई थी। इसके अलावा अमावस्या को कुल के समस्त ज्ञात-अज्ञात पितरोंके निमित भी श्राद्ध किया जाता है।

अमावस्या को श्राद्ध करने के बाद सूर्यास्त के समय पितरों की विदाई की जाएगी। शास्त्रीय विधान के अनुसार सूर्यास्त के समय गंगा तटों पर चौदह दीप प्रज्वलित कर पितरों का सुमिरन करना चाहिए। इसके बाद दक्षिण दिशा की ओर मुंह कर दीपों को गंगा में प्रवाहित कर पितरों को विदाई करें।

गंगा तट नहीं होने की स्थिति पर पीपल के वृक्ष के चारों ओर दीप प्रज्वलित करें।

 

Comment
 
Name:
Email:
Comment:
Feng Shui Tips
Feng Shui tips for Love and Romance
How Feng Shui Works
Geopathic Stress
View all
Lal Kitab Remedies
प्रश्न कुण्डली एवं व्यवसाय और रोजगार~Horary Astrology and Your Business or Profession
मोर पंख का महत्त्व
विदेश जाने का ज्योतिषीय उपाय
Result of Rahu in Various House and Remedies thereof in Lal Kitab
जादू टोना या तान्त्रिक प्रयोग पता लगाने के उपाय
View all Remedies...
Prashnawali

Ganesha Prashnawali

Ma Durga Prashnawali

Ram Prashnawali

Bhairav Prashnawali

Hanuman Prashnawali

SaiBaba Prashnawali
 
 
Free Numerology
Enter Your Name :
Enter Your Date of Birth :
 
Dream Analysis
Dream
  like Wife, Mother, Water, Snake, Fight etc.
 
Find More
Copyright © MyGuru.in. All Rights Reserved.
Site By rpgwebsolutions.com