Home » Lal Kitab Remedies » माँ लक्ष्मी को प्रसन्न करने हेतु उपाय

माँ लक्ष्मी को प्रसन्न करने हेतु उपाय

  • सुबह उठकर सबसे पहले घर की मालकिन अगर एक लोटा पानी घर के मुख्य द्वार पर डालती है तो घर में लक्ष्मी देवी के आने का रास्ता खुल जाता है।
  • अगर आप चाहते हैं कि घर में सुख-शांति बनी रहे तो हर एक अमावस के दिन घर की अच्छी तरह सफाई करके (बेकार सामान घर में न रखें) कच्ची लस्सी का छिंटा देकर 5 अगरबत्ती जलाइए।
  • महीने में 2 बार किसी भी दिन घर में उपला जलाकर लोबान व धुप की धूनी देने से घर में ऊपरी हवा का बचाव रहता है तथा बीमारी दूर होती है।
  • आपके घर में अगर अग्नि कोण में पानी की टंकी रखी हो तो घर में कर्ज व बीमारी कभी समाप्त नहीं होती है। इससे बचने के लिए इस कोने में एक लाल बल्ब जला दें, जो हर वक्त जलता रहे।
  • घर में पैसा रखने वाली अलमारी का मुंह उत्तर की तरफ रखें, ऐसा करने से घर में लक्ष्मी बढ़ती है।
  • किसी रोज संध्याकाल में गाय का कच्चा दूध मिट्टी के किसी बर्तन में भरकर बाएं हाथ से नजर लगे बच्चे के सर से सात बार उतारकर चौराहे पर रख आएं या किसी कुत्ते को पिला दें, नजर दोष दूर हो जाएगा ।
  • घर के किसी भी कार्य के लिए निकलते समय पहले विपरीत दिशा में 4 पग जाएं, इसके बाद कार्य पर चले जाएं, कार्य जरूर बनेगा |
  • जो व्यक्ति प्रत्येक बुधवार को 108 कमलगटटे के बीज लेकर घी के साथ एक-एक करके अग्नि में 108 आहुतियां देता है। उसके घर से दरिद्रता हमेशा के लिए चली जाती है।
  • जो पाठ के दौरान की माला अपने गले में धारण करता है उस पर लक्ष्मी की कृपा सदा बनी रहती है।
  • यदि रोज 108 कमल के बीजों से आहुति दें और ऐसा 21 दिन तक करें तो आने वाली कई पीढिय़ां सम्पन्न बनी रहती हैं।
  • यदि दुकान में कमल गट्टे की माला बिछा कर उसके ऊपर भगवती लक्ष्मी का चित्र स्थापित किया जाए तो व्यापार में कमी आ ही नहीं सकती। उसका व्यापार निरंतर उन्नति की ओर अग्रसर होता रहता है।
  • कमल गट्टे की माला भगवती लक्ष्मी के चित्र पर पहना कर किसी नदी या तालाब में विसर्जित करें तो उसके घर में निरंतर लक्ष्मी का आगमन बना रहता है।

लक्ष्मी सूक्त-- क्रोधो मात्सर्य, लोभो ना शुभामति: !

भवन्ति कृत पुण्यानां, भक्तानां सूक्त जापिनाम् ।।

 
 
 
Comments:
 
 
 
 
 
 
Free Numerology
Enter Your Name :
Enter Your Date of Birth :
धार्मिक स्थल
Subscribe for Newsletter
Copyright © MyGuru.in. All Rights Reserved.
Site By rpgwebsolutions.com